Can you friendship with me Meaning in Hindi with example

Can you friendship with me Meaning in Hindi with example

Can you friendship with me Meaning in Hindi with example


Can you friendship with me.   - English to Hindi


-Can you friendship with me?
-क्या तुम मुझसे दोस्ती करोगे?


Apart from this you should also know about
👇👇
-can you do friendship with me Meaning in Hindi
-are you do friendship with me Meaning in Hindi
-can i friendship with you Meaning in Hindi
-will you do friendship with me? Meaning in Hindi
-Do you wanna friendship with me? Meaning in Hindi
-Do you want to friendship with me? Meaning in Hindi
-would you like to friendship with me? Meaning in Hindi

*can you do friendship with me?
(क्या तुम मुझसे दोस्ती कर सकते हो?)

*Are you do friendship with me?
(क्या तुम मुझसे दोस्ती करते हो?)

*can i friendship with you?
(क्या मेरे साथ आपकी दोस्ती हो सकती है?)

*will you do friendship with me?
(आप मुझसे फ्रेंडशिप करोग?)

*Do you wanna friendship with me?
(क्या तुम मुझसे दोस्ती करना चाहते हो?)

*Do you want to friendship with me?
(क्या आप मुझसे दोस्ती करना चाहते हैं?)

*would you like to friendship with me?
(क्या मुझसे दोस्ती करना चाहोगे?)



Part of Speech
Part of Speech- अंग्रेजी भाषा में जितने भी शब्द हैं उनको , sentences में Work एवं Experiment के विचार से , 08 भागों में बाँटा गया है । इनमें से प्रत्येक part को Part of Speech कहते हैं । 

These are the following 
1. Noun ( संज्ञा ) 
2. Pronoun ( सर्वनाम ) 
3. Adjective ( विशेषण) 
4.Verb ( क्रिया ) 
5. Adverb ( क्रियाविशेषण ) 
6. Preposition ( संबंधबोधक अव्यय ) 
7. Conjunction ( समुच्चयबोधक अव्यय ) 
8. Interjection ( विस्मयादिबोधक अव्यय ) 


1. Noun ( संज्ञा ) 
Definition of Noun 
(किसी आदमी ,पशु, स्थान, वस्तु,के नाम को संज्ञा कहते है )
Noun को हिंदी में संज्ञा कहा जाता है
उदहारण 
किसी भी व्यक्ति, स्थान, किसी भी वस्तु, स्थिति और क्रिया के नाम को संज्ञा कहते हैं।

कोई व्यक्ति, स्थान , वस्तु ,गुण ,दशा और कार्य के नाम को संज्ञा है

2. Pronoun ( सर्वनाम ) 
Definition of Pronoun 
(PRONOUN  एक ऐसा शब्द है जो किसी noun के बदले में प्रयुक्त होता है)
सर्वनाम एक ऐसा शब्द है जो संज्ञा या संज्ञा वाक्यांश के बजाय प्रयोग किया जाता है। सर्वनाम या तो एक संज्ञा को संदर्भित करता है जिसका पहले ही उल्लेख किया जा चुका है या एक संज्ञा जिसे विशेष रूप से नामित करने की आवश्यकता नहीं है।

3. Adjective ( विशेषण) 
Definition of Adjective 
(Adjective वह शब्द है जो किसी noun या pronoun की विशेषता बताता है)
विशेषण संज्ञा और सर्वनाम का वर्णन करते हैं या संशोधित करते हैं-अर्थात, वे अर्थ को सीमित या प्रतिबंधित करते हैं। वे सभी प्रकार के गुणों को नाम दे सकते हैं: विशाल, लाल, क्रोधित, जबरदस्त, अद्वितीय, दुर्लभ, आदि।

4.Verb ( क्रिया ) 
Definition of Verb 
(verb वह शब्द है जिसमे किसी के कार्य business, अधिकार संबंध या अवस्था का बोध होता है)
क्रिया ऐसे शब्द हैं जो एक क्रिया (गाना), घटना (विकास), या होने की स्थिति (अस्तित्व) दिखाते हैं। लगभग हर वाक्य में एक क्रिया की आवश्यकता होती है। क्रिया के मूल रूप को उसका अपरिमेय कहा जाता है। कॉल, लव, ब्रेक और गो सभी इनफिनिटिव हैं।

5. Adverb ( क्रियाविशेषण ) 
Definition of Adverb 
(adverb वह शब्द है जो किसी verb adjective या दूसरे adverb की विशेषता बताता है)
क्रियाविशेषण ऐसे शब्द हैं जो आमतौर पर संशोधित करते हैं - अर्थात, वे क्रियाओं के अर्थ को सीमित या प्रतिबंधित करते हैं। वे विशेषणों, अन्य क्रियाविशेषणों, वाक्यांशों या पूरे वाक्यों को भी संशोधित कर सकते हैं।

6. Preposition ( संबंधबोधक अव्यय ) 
Definition of Preposition 
(Preposition ऐसा शब्द होता है जो किसी noun या pronoun के पहले आकर उस noun या pronoun का सम्बन्ध, वाक्य में प्रयुक्त किसी अन्य शब्दों से कराता है। ) 

एक कार्य शब्द जो आम तौर पर एक वाक्यांश बनाने के लिए संज्ञा वाक्यांश के साथ जुड़ता है जो आमतौर पर एक संशोधन या भविष्यवाणी व्यक्त करता है

7. Conjunction ( समुच्चयबोधक अव्यय ) 
Definition of Conjunction 
(Conjunctions  वह शब्द है जो शब्दों या शब्दों समूहों को , वाक्यांशों या वाक्यों को जोड़ता है ) 
Conjunctions ऐसे शब्द हैं जो दूसरे शब्दों या शब्दों के समूह को एक साथ जोड़ते हैं।

8. Interjection ( विस्मयादिबोधक अव्यय ) 
Definition of Interjection 
(Interjection वह शब्द है जिससे आकस्मिक ख़ुशी , दुःख या फिर मन का कोई दूसरा भाव व्यक्त करता है)
Interjection एक शब्द या वाक्यांश है जो अपने आस-पास के शब्दों से व्याकरणिक रूप से स्वतंत्र है, और मुख्य रूप से अर्थ के बजाय भावना व्यक्त करता है।

Post a Comment

0 Comments