FMEA meaning in hindi FMEA का मतलब क्या होता है?

FMEA meaning in hindi
FMEA का मतलब क्या होता है?

FMEA का मतलब Failure Mode and Effect Analysis इसे हिन्दी मे असफलता मोड और प्रभाव विश्लेषण कहते है। 
FMEA meaning in hindi FMEA का मतलब क्या होता है?


ISO/TS 16949:2019 के अनुसार ISO/TS 16949:2009 के IATF 16949:2016 मे रिप्लेस कर दिया गया है। Quality management tools के पाँच core tools होते है जिसमे से FMEA भी एक tool है। 

Quality management tools के पाँच core tools  इस प्रकार है। 

[1] पहला टूल- APQP

[2] दूसरा टूल-FMEA

[3] तीसरा टूल-MSA

[4] चौथा टूल-SPC

[5] पंचवा टूल-PPAP

What is FMEA ?-

हमारा कोई भी प्रोडक्ट या process किसी भी तरह से fail ना हो इसके कौन कौन से reason है fail होने के और इसका क्या impact आएगा इसकी complete process होती है वह हम FMEA  में करते है इसमें हमें यह पता चलता है की हमारा failure किस जगह से हुआ है इससे हम सभी process  को study करते है और हम find out करते है की किस वजह से या क्या क्या reason हो सकते है failure के। 

अगर हमारे  process में कुछ  failure हो गया तब उसे  analysis और findout करने के लिए  FMEA का use करते है की किस वजह से यह failure generate हुआ है। 

FMEA karne se ky benifits hota hai-

-FMEA se design aur process related jo bhi failure modes hai unhe hum identify karte hai.
- Hum un failier modes ka effect aur severity identify karte hai.
- Uske causes identify karte hai aur probability aur occurence ko identify karte hai 
- Isme hum uska efectiveness aur control samajhne ki kosis karte hai 
- Hum risk ko quantifes (matra) karte hai aur prioritizes (prathmikta) bhi karte hai 
- Last me action plan ko document karte hai aur us par impliment karte hai.

Types of process-

Review all process-  pahle hum sabhi process ko review karege hamara failure jis point pe hua hai iske liye hua sabhi process ko review karte hai

Failure modes process-  hamare process me Failure hone ke Chance kya hai matlab kis tarah se hamare process me failure ho sakta hai.

Failure modes effects - agar Failure hota hai to uska effect kya hoga. 

Severity ranking -  severity ranking yah hamare potential failure effect ke severity ko identify karta hai means jo failure hua hai uska impact (prabhav) kya hoga.isme hua (severity ek numerical value hota hai) ek value assign karte hai wah kis rank me aata hai ex 1,2,3,4,....

Failure mode causes-  Agar failure mode hota hia to uske hone ke karan kya kya causes ho sakte hai.

Occurrence rankings- agar failure hua to uske occurence ki frequency kya banti hai.

Failure modes controls- Failure modes ko control karne ke liye on time hamare pass kya kya 
mechanism hai kya method hai kis tarah ke control mere pass hai.

Detection rating- Agar failure hota hai to mere detection ke process me kitni probilities banti hai ki agar failure hota hai to ise detect kar liya jaayega.

Risk Priority Number(RPN)- yah severity,occurrence and detection ka multiplication number hota hia. isme hum rpn calculate karte hai teeno value severity,occurrence and detection assign karne ke baad me hum calculare karege rpn value (RPN- Risk Priority Number) iske liye hum in teeno ki value ko multiply karege aur jo bhi value aata hai wah RPN value hoga.

RPN means Risk priority numbers.
RPN = Severity × Occurrence × Detection.

Action planing - Isme hum action plan karte hai severity,occurrence and detection isme improvement karke hum ise kam kar sakte hai kaise improvement kar sakte hai matlab hum yaha par severity rating,occurrence rating and detection rating me kami lane ki kosis karte hai.

Fmea का परिचय-

खराब डिजाइन वाले उत्पादों और / या प्रक्रियाओं के परिणामस्वरूप उत्पाद रिकॉल के कई हाई-प्रोफाइल उदाहरण हैं। इन विफलताओं को सार्वजनिक मंच में निर्माताओं, सेवा प्रदाताओं और आपूर्तिकर्ताओं के साथ सुरक्षित उत्पाद प्रदान करने में असमर्थ के रूप में दर्शाया गया है। 

विफलता मोड और प्रभाव विश्लेषण, या एफएमईए, एक पद्धति है जिसका उद्देश्य संगठनों को डिजाइन या निर्माण प्रक्रिया में सभी संभावित विफलताओं की पहचान करके डिजाइन चरण के दौरान विफलता का पूर्वानुमान लगाने की अनुमति देना है।1950 के दशक में विकसित, FMEA जल्द से जल्द संरचित विश्वसनीयता सुधार विधियों में से एक था। आज भी यह विफलता की संभावना को कम करने का एक अत्यधिक प्रभावी तरीका है।

क्या है fmea-
विफलता मोड और प्रभाव विश्लेषण Failure Mode and Effects Analysis (FMEA) संभावित विफलताओं की खोज करने के लिए एक संरचित दृष्टिकोण है जो किसी उत्पाद या प्रक्रिया के डिजाइन के भीतर मौजूद हो सकता है।

विफलता मोड वे तरीके हैं जिनमें एक प्रक्रिया विफल हो सकती है। प्रभाव ऐसे तरीके हैं जो इन विफलताओं से ग्राहक के लिए बेकार, दोष या हानिकारक परिणाम हो सकते हैं। विफलता मोड और प्रभाव विश्लेषण इन विफलता मोड की पहचान करने, प्राथमिकता देने और सीमित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है।

FMEA अच्छी इंजीनियरिंग का विकल्प नहीं है। बल्कि, यह विफलता के जोखिम का आकलन करके किसी उत्पाद या प्रक्रिया की डिजाइन प्रगति की समीक्षा करने के लिए क्रॉस फंक्शनल टीम (CFT) के ज्ञान और अनुभव को लागू करके अच्छी इंजीनियरिंग को बढ़ाता है।

FMEA की दो व्यापक श्रेणियां हैं,

डिजाइन FMEA (DFMEA)

प्रक्रिया FMEA (PFMEA)
डिजाइन FMEA (DFMEA)-
डिजाइन FMEA (DFMEA) उत्पाद की खराबी, कम उत्पाद जीवन और सुरक्षा और विनियामक चिंताओं की संभावना की पड़ताल करता है:

भौतिक विशेषताएं
ज्यामिति
सहिष्णुता
अन्य घटकों और / या प्रणालियों के साथ इंटरफेस
इंजीनियरिंग शोर: वातावरण, उपयोगकर्ता प्रोफ़ाइल, गिरावट, 

प्रक्रिया FMEA (PFMEA)-
प्रक्रिया FMEA (PFMEA) उत्पाद की गुणवत्ता, प्रक्रिया की कम विश्वसनीयता, ग्राहक असंतोष और सुरक्षा या पर्यावरणीय खतरों से उत्पन्न विफलता को रोकती है:

मानव परिबल
प्रक्रिया करते समय तरीके
उपयोग किया गया सामन
मशीनों का उपयोग किया
मापन प्रणाली स्वीकृति पर प्रभाव डालती है
प्रक्रिया प्रदर्शन पर पर्यावरण कारक

Fmea कि प्रदर्शन क्यों?

ऐतिहासिक रूप से, जितनी जल्दी एक विफलता की खोज की जाती है, उतना ही कम खर्च होगा। यदि उत्पाद विकास या लॉन्च में देरी का पता चला है, तो प्रभाव तेजी से अधिक विनाशकारी है।

FMEA कई उपकरणों में से एक है जिसका उपयोग उत्पाद या प्रक्रिया के डिजाइन में इसके शुरुआती संभव बिंदु पर विफलता की खोज के लिए किया जाता है। FMEA का उपयोग करके उत्पाद विकास (पीडी) में जल्दी असफलता की खोज करना निम्नलिखित के लाभ प्रदान करता है:

FMEA दस्तावेज़ विश्लेषण-
एफएमपीए पर कार्रवाई करने का निर्णय लेना ऐतिहासिक रूप से आरपीएन थ्रेसहोल्ड द्वारा निर्धारित किया गया है। गुणवत्ता-एक कार्रवाई लक्ष्य निर्धारित करने के लिए RPN थ्रेसहोल्ड के उपयोग की अनुशंसा नहीं करता है। इस तरह के लक्ष्यों को टीम के व्यवहार को नकारात्मक रूप से बदलने के लिए माना जाता है क्योंकि टीमें सबसे कम संख्या का चयन करने के लिए सीमा से नीचे आती हैं और वास्तविक जोखिम नहीं, शमन की आवश्यकता होती है।

Post a Comment

0 Comments