SPC meaning in hindi spc मीनिंग इन हिंदी

SPC meaning in hindi spc मीनिंग इन हिंदी 
SPC मतलब क्या होता है 

SPC मतलब Statistical Process Control होता है इसे हिन्दी मे सांख्यिकीय प्रक्रिया नियंत्रण कहते है।


SPC meaning in hindi spc मीनिंग इन हिंदी


ISO/TS 16949:2019 के अनुसार ISO/TS 16949:2009 के IATF 16949:2016 मे रिप्लेस कर दिया गया है। Quality management tools के पाँच core tools होते है जिसमे से ''spc'' भी एक tool है। 

Quality management tools के पाँच core tools  इस प्रकार है। 

[1] पहला टूल- APQP

[2] दूसरा टूल-FMEA

[3] तीसरा टूल-MSA

[4] चौथा टूल-SPC

[5] पंचवा टूल-PPAP

SPC क्या है?
SPCएक मैकेनिज्म  है जिससे की हम प्रोसेस में होने वाले वेरिएशन को मॉनिटर कर सकते है और डिटेक्ट भी कर सकते है और बाद में हम उस पर एक्शन प्लान कर सकते है।

SPC हमें क्यों करना चाहिए इसको यूज़ करने के बहुत सारे कारण हो सकते है!

SPC का यूज़ करने से cost reduce होता है, रिजेक्शन और rework में कमी आती है और क्वालिटी में इम्प्रूवमेंट होता है productivity increase होती है, हमें advance रहने के लिए advance Technic का इस्तेमाल करना चाहिए।

यह hidden process को uncover करता है customer को भी confidenceरहेगा की ये जो हमारा supplier है जो की  spc method से हमारे  process को  controlकर रहा है।

statistical process control (spc) तीन चीजों से बना हुआ है statistical, process और  control.

statistics क्या है ? 
जब हम डाटा को  100% collect करते है तो इसे कहते है  poppulation डाटा लेकिन generally जो हमारा decision  making process होता है वो  100% data पे काम नहीं करता है। हम decision लेने के लिए कुछ sample लेते है और उन sample के basis पे हम decision करते है।  sample के basis पे decision making को statistics  करते है। 

process क्या है ? 
Process में हम input में out put को convert करते है और इसमें  कुछ resourcess का  utilization होता है। statistics में data का बहुत jyada use होता है हम  process से data लेते है। basically डाटा दो टाइप के होते है।

SPC विनिर्माण प्रक्रिया की निगरानी करके गुणवत्ता को मापने और नियंत्रित करने की विधि है। गुणवत्ता डेटा को विभिन्न मशीनों या इंस्ट्रूमेंटेशन से उत्पाद या प्रक्रिया माप या रीडिंग के रूप में एकत्र किया जाता है। डेटा एकत्र किया जाता है और एक प्रक्रिया का मूल्यांकन, निगरानी और नियंत्रण करने के लिए उपयोग किया जाता है।

 निरंतर सुधार लाने के लिए SPC एक प्रभावी तरीका है। किसी प्रक्रिया की निगरानी और नियंत्रण करके, हम यह आश्वासन दे सकते हैं कि यह अपनी पूरी क्षमता से चल रही है। SPC के बारे में जानकारी के सबसे व्यापक और मूल्यवान संसाधनों में से एक ऑटोमोटिव इंडस्ट्री एक्शन ग्रुप (एआईएजी) द्वारा प्रकाशित मैनुअल है।

1.Variable (continuous data)   

variable data में हम  basically vernier caliper और micrometerसे जो data लेते है ये सभी डेटा variable data कहलाते है। 

2. Attribute data (descrete data)

Attributr data में हम  jab filler gaugeसे या snap gauge से checkकरते है इनकी जो readings आती है इसे हम descrete dataकहते है इसके आलावा हमने जो visual inspection होते है जैसे हम किसी पार्ट का gloss check करते है high gloss है या ya low gloss है।

shade variation check करते है, damage check करते है,ok कितना हो रहा है  reject कितना हो रहा है, hold कितना हो रहा है इस तरह के जो  inspection data होते है इसे attribute data या descrete data कहते है।

spc का परिचय-

सांख्यिकीय प्रक्रिया नियंत्रण (SPC) उद्योग के लिए नया नहीं है। 1924 में बेल लेबोरेटरीज के एक व्यक्ति ने कंट्रोल चार्ट और कॉन्सेप्ट विकसित किया कि एक प्रक्रिया सांख्यिकीय नियंत्रण में हो सकती है। उसका नाम विलियम ए। शेवर्ट था। उन्होंने अंततः "गुणवत्ता नियंत्रण के दृष्टिकोण से सांख्यिकीय विधि" नामक पुस्तक प्रकाशित की (1939)। 

SPC प्रक्रिया ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान सैन्य टुकड़ियों और हथियारों की सुविधाओं में व्यापक उपयोग किया। उत्पाद की मांग ने उन्हें सुरक्षा से समझौता किए बिना उत्पाद की गुणवत्ता की निगरानी के लिए एक बेहतर और अधिक कुशल तरीके से देखने के लिए मजबूर किया था। SPC ने वह जरूरत भर की। 

अमेरिका में SPC तकनीकों का उपयोग युद्ध के बाद फीका पड़ गया। इसे तब जापानी निर्माण कंपनियों द्वारा उठाया गया था जहाँ आज भी इसका उपयोग किया जाता है। 1970 के दशक में, SPC ने अमेरिकी उद्योग द्वारा जापान से आयात किए जा रहे उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों के दबाव की भावना के कारण फिर से स्वीकृति प्राप्त करना शुरू कर दिया। आज, SPC कई उद्योगों में व्यापक रूप से उपयोग किया जाने वाला गुणवत्ता उपकरण है।

spc -Statistical Process Control (सांख्यिकीय प्रक्रिया नियंत्रण) का उपयोग क्यों करें-

विनिर्माण कंपनियों को आज बढ़ती प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ रहा है। एक ही समय में कच्चे माल की लागत में वृद्धि जारी है। 

ये ऐसे कारक हैं जो अधिकांश भाग के लिए कंपनियों को नियंत्रित नहीं कर सकते हैं। इसलिए कंपनियों को इस बात पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए कि वे क्या नियंत्रित कर सकते हैं: उनकी प्रक्रियाएं। कंपनियों को गुणवत्ता, दक्षता और लागत में कमी में निरंतर सुधार के लिए प्रयास करना चाहिए। कई कंपनियां अभी भी गुणवत्ता के मुद्दों का पता लगाने के लिए उत्पादन के बाद केवल निरीक्षण पर भरोसा करती हैं। 

एसपीसी प्रक्रिया एक कंपनी को रोकने के लिए कार्यान्वित की जाती है ताकि रोकथाम आधारित गुणवत्ता नियंत्रणों का पता लगाया जा सके। वास्तविक समय में किसी प्रक्रिया के प्रदर्शन की निगरानी करके, ऑपरेटर गैर-अनुरूपता वाले उत्पाद और स्क्रैप के परिणामस्वरूप प्रक्रिया में रुझानों या परिवर्तनों का पता लगा सकता है।

Spc का उपयोग कैसे करें-

एसपीसी या किसी भी नई गुणवत्ता प्रणाली को लागू करने से पहले, कचरे के मुख्य क्षेत्रों को निर्धारित करने के लिए विनिर्माण प्रक्रिया का मूल्यांकन किया जाना चाहिए। विनिर्माण प्रक्रिया के कचरे के कुछ उदाहरण हैं rework, स्क्रैप और अत्यधिक निरीक्षण समय। 

सबसे पहले इन क्षेत्रों में एसपीसी उपकरण लागू करना सबसे फायदेमंद होगा। एसपीसी के दौरान, सभी आयामों पर खर्च, समय और उत्पादन में देरी के कारण निगरानी नहीं की जाती है। 

एसपीसी कार्यान्वयन से पहले डिजाइन या प्रक्रिया की प्रमुख या महत्वपूर्ण विशेषताओं को क्रॉस फंक्शनल टीम (CFT) द्वारा प्रिंट समीक्षा या डिज़ाइन विफलता मोड और प्रभाव विश्लेषण (DFMEA) अभ्यास के दौरान पहचाना जाना चाहिए। फिर डेटा को इन प्रमुख या महत्वपूर्ण विशेषताओं पर एकत्र और निगरानी किया जाएगा।

टिप्पणियां

टिप्पणी पोस्ट करें

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

kaizen meaning in hindi काइज़ेन मीनिंग इन हिंदी

PPAP meaning in hindi PPAP मीनिंग इन हिंदी